• यह रत्न बृहस्पति ग्रह से सम्बन्धित होता है, बृहस्पति ग्रह की दो राशियॉ होती है धनु और मीन। जिन जातकों की कुण्डली में गुरू ग्रह पीडि़त होकर अशुभ फल दे रहा हो, उन्हें पोखराज धारण करने को सलाह दी जाती है।
    आईये पोखराज पर विस्तृत चर्चा करते है कि किसे धारण करना चाहिए और किसे नहीं..
  • पोखराज रत्न धारण करने से मान-सम्मान व कीर्ति में वृद्धि होती है।
  • इसे पहनने से शिक्षा व करियर के क्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है।
  • इस रत्न को पहनने से व्यक्ति में धर्म-कर्म के प्रति रूचि बढ़ती है।
  • अगर किसी के विवाह में बाधायें आ रही है तो उन लोगों को पोखराज रत्न पहनने से लाभ मिलता है।
  • प्रशासनिक अधिकारियों, वकीलों, न्यायधीशों, शिक्षकों व राजनेताओं को पोखराज धारण करने से विशेष लाभ मिलता है।
  • 6-जिन लोगों की मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु व मीन लग्न वालों लोगों को पुखराज पहनने से सन्तान, विद्या, धन, यश आदि में सफलता मिलती है।